होम देश विदेश गैर पंजीबद्ध योग संस्थाओं के सर्टिफिकेट केवल समय की बर्बादी है

गैर पंजीबद्ध योग संस्थाओं के सर्टिफिकेट केवल समय की बर्बादी है

गैर पंजीबद्ध योग संस्थाओं के सर्टिफिकेट केवल समय की बर्बादी है -:

 
लेखन एवं संकलन मिलिन्द्र त्रिपाठी 
लॉक डाउन के कारण पूरे देश में ऑनलाइन सेमिनारों एवं प्रतियोगिताओं की बाढ़ आई हुई है । जो हाथो हाथ शानदार डिजाइन किया हुआ सर्टिफिकेट आपको प्रदान कर देती है । कोई संस्था कोरोना योद्धा का सर्टिफिकेट प्रदान कर रही है । कोई संस्था किसी योग इवेंट का सर्टिफिकेट आपको प्रदान कर रही है ।

यहां एक सवाल उठता है यह संस्थाएं सर्टिफिकेट देने के लिए क्या शासन द्वारा पंजीबद् है । उज्जैन में ऐसी अनेक संस्था है जो महंगे योग सर्टिफिकेट प्रदान करती है बकायदा उसकी फीस भी ली जाती है । सर्टिफिकेट प्राप्त करके सर्टिफिकेट लेने वाले खुश हो जाते है तुरन्त उसे सोशल मीडिया पर अपलोड कर दिया जाता है ।

परन्तु क्या कभी आपने सोचा कि यह सर्टिफिकेट आपके किस काम का ? क्या आप अपने बायोडाटा में यह सर्टिफिकेट लगा सकते है ? नही आप अपने बायोडाटा में यह सर्टिफिकेट का प्रयोग नही कर सकते । इसके पीछे सबसे बड़ी वजह है संस्था का शासन द्वारा पंजीबद्व न होना । जो संस्था पंजीबद्व नही होगी उसका सर्टिफिकेट आप बायोडाटा में इस्तेमाल नही कर सकते ।

मक्कार सरकारी कर्मचारियों की सेवा समाप्त करके निजीकरण करना देशहित में होगा

अब सोचिये ऐसी संस्था का प्रमाण पत्र आपको सोशल मीडिया पर वाहवाही दिला सकता है लेकिन यातार्थ धरातल पर यह सर्टिफिकेट केवल समय की बर्बादी ही सिद्ध होगा । किसी बायोडाटा में आपने यदि उक्त सर्टिफिकेट का उपयोग कर लिया तो इंटरव्यू के समय आप हंसी के पात्र हो सकते है । दिखावे के लिए ऐसी संस्थाएं बड़े बड़े नाम इस्तेमाल करती है ।

उनके लिए स्वयं को ट्रस्ट बताना ,फेडरेशन बताना आम बात है यह अपने नाम के आगे अंतराष्ट्रीय लिखने से भी गुरेज नही करते । शासन की गाइड लाइन के मुताबिक सोसायटी एवं ट्रस्ट पंजीयन विभाग द्वारा मान्यता प्राप्त संस्था ही सर्टिफिकेट प्रदान कर सकती है ।

परंतु अब तो लोग घर मे बैठकर अपने मन मे जो आया उस नाम की संस्था का निर्माण कर लेते है अनेकों नियमों से अनजान लोगों को उसका पदाधिकारी बना देते है और कुछ तो ओर भी आगे है वो अपनी कारों पर हूटर ओर नेम प्लेट तक लगा लेते है ।

जिसमे संस्था का नाम लिखा होता है और स्वयं संस्था के राष्ट्रीय अध्यक्ष कहलाना पसंद करते है । पुलिस की चालानी में यह हत्ते चढ़ते है तो नेताओं के संपर्क का फायदा उठाकर निकल जाते है । जहां निवास करते है वहां के लोगो पर खूब रौब झाड़ते है ।

यह सब करना आम बात हो सकती है हम भी हर नागरिक को नही सुधार सकते लेकिन ऐसी संस्था जब युवाओं का कीमती समय बर्बाद करती है तो मन मे पीड़ा होती है । आखिर इन्हें किसने अधिकार दिया कि यह हमारे युवाओं को दिग्भ्रमित करें ? प्रशासन इन पर कार्यवाही क्यों नही करता?

PM किसान सम्मान निधि में अब किसानों को मिलेंगे 10 हजार सालाना

अभी विश्व योग दिवस पर अनेकों संस्थाओं ने थोक के भाव मे सर्टिफिकेट वितरित किये लेकिन कही भी उसमे संस्था का पंजीयन नम्बर नही था । कोई भी सर्टिफिकेट यदि कोई संस्था आपको देती हैं उसमें उस संस्था का रजिस्ट्रेशन नम्बर डालना अनिवार्य होता है ।

यदि आपको दिए सर्टिफिकेट में संस्था का नम्बर नही है तो आप प्रारम्भिक तौर पर समझ सकते है की यह सर्टिफिकेट फर्जी है । सोचिये यह कागज का टुकड़ा आपके किस काम का सोशल मीडिया पर आपके दोस्त तो हर पोस्ट को लाइक करते है वो ऐसे सर्टिफिकेट पर भी आपको शुभचिंतक होने के कारण बधाई एवं शुभकामनाएं ही देंगे

लेकिन यदि आप किसी जानकार से उक्त सर्टिफिकेट की मान्यता पर मार्गदर्शन लेते है तो आप स्वयं को ठगा महसूस करेंगे । मेरा आपसे अनुरोध है गलत सर्टिफिकेट के चक्कर मे आकर अपना कीमती समय बर्बाद न करें एवं अपने मित्रों को भी ऐसे जंजाल से बचाये ।


(उक्त लेख के किसी भी हिस्से को एवं प्रयुक्त फोटो को लेखक की सहमति के बिना कॉपी करना गैरकानूनी है ,कॉपी करने पर कानूनी कार्यवाही की जाएगी )
लेखन एवं संकलन मिलिन्द्र त्रिपाठी  

milindrahttps://jansarkarnews.com
योगाचार्य पं.मिलिन्द्र त्रिपाठी उज्जैन मध्यप्रदेश शिक्षा -: एमएससी योग थैरेपी, पीजी डिप्लोमा योग दर्शन ,एम. ए पत्रकारिता , एल.एल.बी ,एम एस डब्लू ,बी.सी.ए पद – सचिव उज्जैन योग संघ संस्थापक उज्जैन योगा इंस्टीट्यूट संपर्क 9977383800 ,9098369093

Leave a Reply

Most Popular

केसरिया हिन्दू वाहिनी मध्यप्रदेश की वृहद बैठक उज्जैन में सम्पन्न

केसरिया हिन्दू वाहिनी मध्यप्रदेश की वृहद बैठक उज्जैन में सम्पन्न -:

भारत सरकार द्वारा गठित MPYSA द्वारा योग स्टेट जज के प्रमाण पत्र से डॉ.मिलिन्द्र त्रिपाठी को किया गया सम्मानित

भारत सरकार द्वारा गठित MPYSA द्वारा योग स्टेट जज के प्रमाण पत्र से किया गया सम्मानित -: मेरे लिए गौरवशाली क्षण

उज्जैन कुलपति ने खुद ली विद्यार्थियों की क्लास शिक्षक के तौर पर कुलपति को पाकर चौक उठे विद्यार्थी

कुलपति चैंबर छोड़ अचानक क्लास लेने पहुंचे विक्रम विश्व विद्यालय के कुलपति -: कुलपति ने खुद ली विद्यार्थियों की...

उज्जैन योग संघ द्वारा आयोजित योग कॉन्फ्रेंस में बड़ी संख्या में शामिल हुए योगाचार्य

उज्जैन योग संघ द्वारा आयोजित योग कॉन्फ्रेंस में बड़ी संख्या में शामिल हुए योगाचार्य -:

Recent Comments