होम देश विदेश कोरोना रिंगटोन क्यो है घातक कैसे इमरजेंसी कॉल करना बना सरदर्द रिंगटोनकैसे...

कोरोना रिंगटोन क्यो है घातक कैसे इमरजेंसी कॉल करना बना सरदर्द रिंगटोनकैसे अभिशाप हो सकती है

विगत कई दिनों से आप जब भी किसी को फोन करते हैं तो कॉल उठने से पहले बॉलिवुड के अमिताभ बच्‍चन की आवाज जरूर सुनाई देती है ।

जिसपर जनता का कहना है जो खुद कोरोना पॉजिटिव हो चुके है वो कैसे जनता को कोरोना से बचने की सलाह दे रहे है ।यह तो उनका नैतिक अधिकार ही नही है ।

क्या कोई रिंगटोन इतनी घातक हो सकती है जो जनता का सरदर्द बन जाये । यह रिंगटोन यदि रिंग की जगह सुनाई दे तो समझ मे आता है । लेकिन इस रिंगटोन का यह मतलब कताई नही है कि फोन लग गया है ।

यह रिंगटोन दिनभर में एक बार सुनाई दे तो समझ मे आता है लेकिन हर कॉल पर इस रिंगटोन को जबरदस्ती सुनाकर जनता पर थोपा जा रहा है । इमरजेंसी कॉल के समय लगभग 1 मिनट तक यही अमिताभ बच्चन वाली रिंगटोन सुन्ना मजबूरी बन गया है ।

इस रिंगटोन के कारण अनेक हादसे जो रोके जा सकते थे वो चाहकर भी नही रोके जा पा रहें है ।

जनता के करोड़ो मिनट बर्बाद किये जा रहें है -:

कोरोना की रिंगटोन यदि लगानी ही थी तो उसे इस तरह सेट किया जा सकता था जैसे अन्य रिंगटोन को सेट किया जाता है । पूरी रिंगटोन सुनने के बाद ही सामने वाले को घण्टी जाती है ।

जबकि 50 सेकंड के लगभग यही कोरोना रिंगटोन सुनाई देती है । यदि देश की आबादी को 150 करोड़ माना जाए और 100 करोड़ मोबाइल यूजर माने जाए तो दिनभर में प्रति व्यक्ति के हिसाब से कम से कम 10 मिनट यह रिगटोन खा रही है ।

करोड़ो मिनट का समय देश की जनता का रोज बर्बाद किया जा रहा है । इस समय का कोई दुसरा उपयोग भी नही किया जा सकता है ।(नीचे स्क्रॉल करें लेख आगे निरन्तर जारी है।)

किसी आपातकालीन समय में जब एक एक सेकंड कीमती होता है तब कोरोना रिंगटोन जानलेवा साबित हो सकती है -:

1.एक्सिडेंट हो जाने पर जब एक एक सेकंड कीमती होता है उस समय जल्दी जल्दी फोन लगाने की जरूरत पड़ती है ।

तब यह रिंगटोन आपके 50 सेकंड बिगाड़ कर जरूरतमंद की जान तक जा सकती है ।

  1. सोचकर देखिए एक अकेली लड़की अपराधियों के चंगुल में फंस गयी हो और उसे खुद को बचाने के लिए किसी को कॉल करना हो तो यह रिंगटोन उसके लिए अभिशाप बन सकती है ।

3.कोई बच्चा किडनेप हो जाये और उसे वहां किस्मत से मोबाइल मिल जाये

उसे घर फोन करना हो और केवल 1 मिनट का समय ही उसके पास हो तब यह रिंगटोन अभिशाप बन जाएगी ।

  1. एक अपराधी किसी के घर के सदस्यों को घायल करके बच्चे का अपहरण करके भाग रहा हो, पड़ोसी ने मदद के लिये फोन किया, फोन नहीं लगा, फोन पर विज्ञापन ही चलता रहा, इतने में अपराधी फरार हो गया ।

तब यह रिंगटोन अभिशाप बन जाएगी ।

  1. एक डंपर का पीछे का डाला अपने आप उठने लगा, पीछे पीछे गाड़ी मालिक था, मालिक ने ड्राइवर को फोन किया फोन नहीं लगा, विज्ञापन ही चलता रहा, परिणाम ये हुआ कि डंपर का डाला पूरी तरह ऊपर उठ गया और हाईटेंशन लाइन से टकरा गया और बड़ी दुर्घटना हो गई ।
  2. तब यह रिंगटोन अभिशाप बन जाएगी ।
  3. कार के ब्रेक फेल हो और घर का कोई सदस्य अनजाने में वो वाहन लेकर चला जाये और घर वाले उसे फोन करें तब तक 50 सेकंड में रिंगटोन सुनाई देगी और बड़ा हादसा हो सकने की संभावना रहेगी ।

ऐसी 1000 परिस्थिति हो सकती है लेकिन हमारा मकसद लेख को लंबा करना नही है । बल्कि समस्या को हल करवाना है ।

यह जनता की आवाज है जितना जल्दी इसे सुना जाएगा उतना ही देश की जनता के कीमती समय को बचाया जा सकेगा ।

(लेख में प्रस्तुत विचार लेखक एवं समाचार समूह के निजी विचार नही है यह जनता द्वारा सोशल मीडिया पर की गई पोस्ट ओर टिप्पणी का संकलित रूप है । )

लेखन एवं संकलन मिलिन्द्र त्रिपाठी
Jitu patidar farnakhedihttps://jansarkarnews.com/
I am student of csjmu university kanpur director of ujjain web development webside creator mob. 8269696474

Leave a Reply

Most Popular

उज्जैन कुलपति ने खुद ली विद्यार्थियों की क्लास शिक्षक के तौर पर कुलपति को पाकर चौक उठे विद्यार्थी

कुलपति चैंबर छोड़ अचानक क्लास लेने पहुंचे विक्रम विश्व विद्यालय के कुलपति -: कुलपति ने खुद ली विद्यार्थियों की...

उज्जैन योग संघ द्वारा आयोजित योग कॉन्फ्रेंस में बड़ी संख्या में शामिल हुए योगाचार्य

उज्जैन योग संघ द्वारा आयोजित योग कॉन्फ्रेंस में बड़ी संख्या में शामिल हुए योगाचार्य -:

म.प्र. के अनेक विश्वविद्यालय में योग शिक्षा के नाम पर हो रही धांधली राज्यपाल से उच्च स्तरीय जांच की मांग

म.प्र. के अनेक विश्वविद्यालय में योग शिक्षा के नाम पर हो रही धांधली राज्यपाल से उच्च स्तरीय जांच की मांग -:

उज्जैन योग संघ की नवीन कार्यकारणी घोषित

उज्जैन योग संघ की नवीन कार्यकारणी घोषित -: मध्यप्रदेश शासन से मान्यता प्राप्त उज्जैन में योग की सबसे बड़ी...

Recent Comments