होम देश विदेश उज्जैन में मिर्ची सेठ द्वारा हनुमान मंदिर तोड़ने पर जनता में आक्रोश

उज्जैन में मिर्ची सेठ द्वारा हनुमान मंदिर तोड़ने पर जनता में आक्रोश

उज्जैन में मिर्ची सेठ द्वारा हनुमान मंदिर तोड़ने पर जनता में आक्रोश उग्र आंदोलन की चेतावनी -:

लेखन एवं संकलन मिलिन्द्र त्रिपाठी

मध्यप्रदेश की धार्मिक राजधानी उज्जैन जहां हनुमान मंदिर तोड़े जाने की घटना को अंजाम दिया गया । उज्जैन का दौलतगंज तेल बाजार जहां पर मिर्ची सेठ उर्फ कमलेश जैन द्वारा हनुमान मंदिर एवं भैरव मंदिर को तोड़ने पर जनता में आक्रोश है ।

प्रमुख हिन्दू संगठनों एवं सन्तों ने प्रशासन को कठोरतम कार्यवाही करने को कहा है एवं मिर्ची सेठ द्वारा ही पुनः मंदिर का निर्माण कराया जाए इसकी मांग रखी है। मामले के तूल पकड़ते ही कमलेश जैन ने छुपना शुरू कर दिया है ।

हजारो लोगो की आस्था के केंद्र मंदिर को तोड़े जाने से हिन्दू समाज की भावनाएं आहत हुई है । हिन्दू संगठनों का कहना है कि यदि जल्द कठोर कार्यवाही नही की गई तो उग्र आंदोलन किया जाएगा ।

दरअसल मिर्ची सेठ की दुकान के आगे यह मंदिर बना हुआ था । मिर्ची सेठ मंदिर तोड़कर उस जगह पर अतिक्रमण करना चाहता था ।

जब वो अतिक्रमण की नीयत से मंदिर तोड़ रहा था तो आसपास के व्यापारियों ने आपत्ति दर्ज की लेकिन मिर्ची सेठ ने जब तक मंदिर को नुकसान पहुंचा दिया था । मंदिर की दीवारे तोड़ दी थी ।

मंदिर बहुत प्राचीन है एवं पिपली मंदिर के नाम से जाना जाता है । यहां सुंदरकांड एवं महाआरती का लगातार आयोजन अनेक वर्षों से हो रहा है ।

आसपास के व्यापारियों के लिए यह आस्था का केंद्र है । अनेक व्यापारी यही पर मत्था टेक का अपनी रोजी रोटी पर जाते है । मंदिर तोड़ने पर उन्होंने आक्रोश व्यक्त किया और एक बैठक कर अपना विरोध भी दर्ज किया ।

मिर्ची सेठ अतिक्रमण में माहिर -:

मिर्ची सेठ राजनैतिक दल की आड़ में अपना रसूक दिखाता है । उसने दुकान से 5 फिट आगे तक मिर्ची की बोरिया रख कब्जा किया हुआ है । यहां तक कि नाले के ऊपर की जगह पर भी समान रखकर कब्जा किया हुआ है । (लेख निरन्तर जारी है स्क्रॉल करके विज्ञापन के नीचे पढ़े )

मंदिर तोड़कर उस स्थान पर पार्किंग स्थल बनाकर अतिक्रमण की मंशा से इस कृत्य को अंजाम दिया गया ।

शांत शहर की फिजा बिगाड़ने की कोशिश -:

शांत शहर की फिजा बिगाड़ने के कृत्य के बाद मिर्ची सेठ छुपा छुपा घूम रहा है । उसने दुकान पर बैठना भी बंद कर दिया है ।

अनेक हिन्दू संगठनों द्वारा आक्रोश जताने के बाद वो सामने नही आ रहा है । डर के मारे वो 51 हजार रुपये देकर पुनः मंदिर निर्माण की बात कर रहा है ।

लेकिन मंदिर निर्माण की कुल अनुमानित लागत 5 लाख रुपये तक आएगी ऐसे में शेष 4 लाख 49 हजार रुपये कहाँ से आएंगे उसकी क्षतिपूर्ति मिर्ची सेठ क्यो नही कर रहा है ।

बड़ा सवाल यह कि जब मंदिर मिर्ची सेठ की निजी संपति नही तो उसने तोड़ा क्यो ? मंदिर तोड़ने पर उसपर आपराधिक प्रकरण दर्ज कर रासुका लगाए जाने की मांग की जा रही है ।

सोशल मीडीया पर तीखी प्रतिक्रिया – सोशल मीडिया पर इस मामले में बेहद तीखी प्रतिक्रिया देखने को मिली । ऐसा प्रतीत होता ही कि कुछ प्रतिक्रियायों को दवाब के बाद हटा भी लिया गया ।

मिर्ची सेठ पर मिर्ची से भी ज्यादा तीखे कमेंट आ रहें है । बुरी तरह ट्रोल हो रहा है । ट्रोलर उसे बख़्सने के मूड में नजर नही आ रहें है । उसको सजा देने की मांग तेज हो रही है ।

(लेख में वर्णित समस्त जानकारी जनता द्वारा सोशल मीडिया पर डाली गयी पोस्ट, कमेंट ओर वीडीयो सन्देश पर आधारित है । यह समाचार पत्र एवं लेखक के व्यक्तिगत विचार नही है । )

लेखन एवं संकलन मिलिन्द्र त्रिपाठी
milindrahttps://jansarkarnews.com
योगाचार्य पं.मिलिन्द्र त्रिपाठी उज्जैन मध्यप्रदेश शिक्षा -: एमएससी योग थैरेपी, पीजी डिप्लोमा योग दर्शन ,एम. ए पत्रकारिता , एल.एल.बी ,एम एस डब्लू ,बी.सी.ए पद – सचिव उज्जैन योग संघ संस्थापक उज्जैन योगा इंस्टीट्यूट संपर्क 9977383800 ,9098369093

Leave a Reply

Most Popular

उज्जैन कुलपति ने खुद ली विद्यार्थियों की क्लास शिक्षक के तौर पर कुलपति को पाकर चौक उठे विद्यार्थी

कुलपति चैंबर छोड़ अचानक क्लास लेने पहुंचे विक्रम विश्व विद्यालय के कुलपति -: कुलपति ने खुद ली विद्यार्थियों की...

उज्जैन योग संघ द्वारा आयोजित योग कॉन्फ्रेंस में बड़ी संख्या में शामिल हुए योगाचार्य

उज्जैन योग संघ द्वारा आयोजित योग कॉन्फ्रेंस में बड़ी संख्या में शामिल हुए योगाचार्य -:

म.प्र. के अनेक विश्वविद्यालय में योग शिक्षा के नाम पर हो रही धांधली राज्यपाल से उच्च स्तरीय जांच की मांग

म.प्र. के अनेक विश्वविद्यालय में योग शिक्षा के नाम पर हो रही धांधली राज्यपाल से उच्च स्तरीय जांच की मांग -:

उज्जैन योग संघ की नवीन कार्यकारणी घोषित

उज्जैन योग संघ की नवीन कार्यकारणी घोषित -: मध्यप्रदेश शासन से मान्यता प्राप्त उज्जैन में योग की सबसे बड़ी...

Recent Comments